Call for papers for ‘Individual Rights in the Age of Digital Medium’

Taking forward the partnership with the Friedrich Naumann Foundation, an independent non-profit committed to promoting liberal policy and politics, we are hosting a summit on ‘Individual Rights in the Age of Digital Medium’ in Bengaluru, Karnataka on September 30, 2016. For the same, we invite papers on themes around (i) Access, Openness & Diversity; (ii)…

DEF’s 13th Founding Day Celebration

“The goal to digitally empower 1 Billion people in the long run is a lofty target something few organisations would have dreamt of. Digital is such an exciting space to be in in these times of #Digital India etal. The political establishment wants it, the nation is craving for it and nothing in the world has made it more equal than digital & ICT tools has.”

“Another thing I have been liking about DEF is its Open work culture. Osama sir never wanted a partition to be put as cubicles etc which must be unique. I have read and seen on tv Mark Zuckerberg’s Facebook’s office to be this open. Openess also is equality.”

औपचारिक शिक्षा से बाहर की दुनिया

बाईस साल के मल्हार इंदुल्कर कोंकण क्षेत्र में बहने वाली वशिष्टि नदी के तट पर रहते हैं। जब उन्हें यह पता चला कि वहां का औद्योगिक कचरा नदी के जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंचा रहा है, तो उन्होंने ऊदबिलाव के संरक्षण में खुद को झोंक दिया। ऊदबिलाव बीमार मछलियों को खा लेता है, जिससे नदी में…

स्मार्टफोन से प्रशासन संभालने की कवायद

देश में कुल मिलाकर 688 जिले हैं। हर जिले का प्रशासन भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसर, यानी आईएएस अधिकारी के हवाले होता है, जिसे कहीं जिलाधीश, कहीं जिलाधिकारी, कहीं जिला कलक्टर, तो कहीं जिला मजिस्ट्रेट कहा जाता है। लेकिन हर मामले में उनकी भूमिका और जिम्मेदारियां लगभग समान होती हैं। उन्हें जिले से राजस्व का…